टेक ज्ञान

इस तरह से रखें अपने डाटा को सुरक्षित और अपने साथ होने वाले फ्रॉड से बचें

 

दोस्तों आज हमारा जीवन पूरी तरह से इंटरनेट पर आधारित हो गया है। आज हम चारों तरफ इंटरनेट से घिरे हुए हैं और इस बदलते समय में इंटरनेट हमारे जीवन का एक मुख्य हिस्सा बन गया, है अगर इंटरनेट न हो तो मानो हमारी जिंदगी एकदम थम सी गयी है । आज हमारे जीवन को सुगम और सरल बनाने के लिए इंटरनेट बहुत जरूरी हो गया है । आज इंटरनेट हमारे जीवन में जितनी तेजी से पैर पसार रहा है उतनी ही ज्यादा इसके खतरे भी बढ़ रहे हैं जैसे हमारा डाटा चोरी होना , हमारे साथ फ्रॉड हो जाना, इंटरनेट के द्वारा हमारे अकाउंट से पैसे का चोरी हो जाना , इतना ही नहीं इसी के साथ कभी कभी हमारा पर्सनल डाटा जैसे हम इंटरनेट पर किससे बातें कर रहे हैं क्या बात कर रहे हैं वह सब चोरी हो जाते हैं और जो बातें पर्सनल होनी चाहिए वह सार्वजनिक हो जाती हैं, और इसका बहुत भारी नुकसान उठाना पड़ जाता है । आए दिन हमें सुनाई और दिखाई देता है कि फलां के खाते से पैसे गायब हो गए , फलां की सोशल मीडिया अकाउंट हैक हो गया वगैरह – वगैरह । दोस्तों ये जितने भी हमारे हमारे साथ फ्रॉड होते हैं उन सभी फ्रॉड के पीछे प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से उसके जिम्मेदार हम ही होते हैं ।

अधिकतर ये फ्रॉड हमारे साथ हमारे बैंक से पैसे चोरी होने के रूप में होते हैं , कई बार ऐसा होता है कि बैंक से हमें फोन आता है और उसका एक कर्मचारी हमसे हमारे सारे डिटेल्स पूछता है और हम उसे बैंक का अधिकारी समझ कर सारे डिटेल्स बता देते हैं जिसके बाद पता चलता है कि हमारे अकाउंट से पैसे ही खाली हो गए और वह कर्मचारी भी गायब हो गया, असल में वह बैंक का कर्मचारी होता ही नहीं है वह एक चोर होता है। इसलिए हमें अपने जीवन में बहुत ही सतर्क रहने की जरूरत है।

आज हम आपको अपना डाटा सुरक्षित रखने के 10 टिप्स बताने जा रहे हैं जिसका पालन करके हम अपने डाटा को सुरक्षित रख सकते हैं और फ्रॉड से बच सकते हैं —-

  • अगर बैंक का कोई कर्मचारी आपको फोन करता है तो वह आपके पर्सनल डिटेल्स कभी नहीं पूछता है, क्योंकि जो भी डिटेल्स उसे चाहिए होती है वह पहले से ही आप बैंक में दे चुके होते हैं और उसके पास आपकी सारी जानकारी होती है , इसलिए अगर कोई भी बैंक का कर्मचारी आपसे आपके डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड का पासवर्ड , उसके न॰ या डेबिट कार्ड/ क्रेडिट कार्ड का सीवीवी (cvv) पूछता है तो वह बैंक का कर्मचारी नहीं कोई चोर है ।
  • अगर आपके डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड की वैलिडिटि समाप्त होने वाली है और आप दूसरा कार्ड लेने की सोच रहे हैं तो आप बैंक की शाखा मे जाकर ही दूसरे कार्ड की रिक्वेस्ट डालें या अगर आप नेटबैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं तो आप उस बैंक की वैबसाइट से भी नए कार्ड की रिक्वेस्ट डाल सकते हैं ।
  • अगर आप अपने नेटबैंकिंग, ईमेल , सोशल मीडिया अकाउंट , या किसी भी अन्य अकाउंट के लिए पासवर्ड बना रहे हों तो एक बात का हमेशा ध्यान रखें कि वह पासवर्ड आपके नाम , आपके मोबाइल न॰ , आपकी जन्म तिथि से न मिलता जुलता हो क्योंकि ऐसे पासवर्ड आसानी से हैक किए जा सकते हैं ।
  • अपने नेट बैंकिंग , ईमेल , सोशल मेयडिया अकाउंट , आदि के पासवर्ड बनाते समय अक्षर और अंक दोनों का इस्तेमाल करें ताकि आपका पासवर्ड ज्यादा मजबूत हो और हैक होने से बचे ।
  • बेमतलब का अपने फोन न॰ , ईमेल , जन्म तिथि , आधार न॰, पैन कार्ड न॰ किसी से शेयर ना करें क्योंकि ये लोग आपके इन सभी जानकारियों का गलत इस्तेमाल कर सकते हैं ।
  • अपने पास हमेशा 2 ईमेल रखें , और जब भी कभी आप कोई फॉर्म भर रहे हों या सोशल मीडिया पर कोई अकाउंट बना रहे हों तो उस ईमेल का उपयोग करें जिसको आप हर जगह उपयोग करते हैं, यहाँ एक बात का ध्यान रहे कि जिस ईमेल का उपयोग आप बैंक में करते हैं उसका उपयोग यहाँ बिलकुल भी न करें, ऐसा करने से हम खुद को सुरक्षित कर सकते हैं ।
  • कभी – कभी हमें व्हाट्सप्प पर या टेक्स्ट मैसेज के जरिये फ्री रीचार्ज , फ्री PAYTM कैश का ऑफर मिलता है और उसमें एक लिंक होता है जिस पर क्लिक करके कुछ डिटेल्स भरने होते हैं और हम भरते भी हैं , लेकिन वावजूद इसके हमें कुछ नहीं मिलता है , ऐसे लिंक से हमेशा बचना चाहिए क्योंकि ऐसे लिंक से हमें कुछ भी मिलता नहीं है बदले में हम अपनी सारी जानकारी हम उसमें भर देते हैं जो हमारे लिए ही नुकसानदायक होता है क्योंकि ऐसे मे हमारी सारी जानकारी उनके पास चली जाती है और हमारे साथ फ्रॉड होने की संभावना बढ़ जाती है ।
  • अपने डेबिट/क्रेडिट कार्ड, ईमेल , नेटबैंकिंग, सोशल मीडिया अकाउंट के पासवर्ड समय समय पर बदलते रहना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से हमारा डाटा सुरक्षित रहता है ।
  • अपने डेबिट/क्रेडिट कार्ड की तस्वीर अपने किसी भी संबंधी को सोशल मीडिया के जरिये नहीं भेजनी चाहिए क्योंकि ये सारे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म कहीं न कहीं से मॉनिटर होते रहते हैं और हमारा डाटा वहाँ से भी चोरी हो सकता है । क्योंकि आप इन कार्ड के तस्वीर जिस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के द्वारा भेजते हैं उस प्लेटफॉर्म के कर्मचारी आपके सभी क्रिया कलापों पर नज़र बनाए रखते हैं और ऐसे में हो सकता है कि वही कर्मचारी आपके साथ फ्रॉड करने की कोशिश करे ।
  • सोशल मीडिया पर कोई भी एक्टिविटी करते समय इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि वह जो काम आप कर रहे हैं वह समाज की नज़र में कितने हद तक सही है, क्योंकि इन प्लेटफॉर्म पर आप जो भी करते हैं उन सभी कार्यों की हिस्ट्री ये कंपनियाँ अपने पास रखती हैं और इन कंपनियों का कौन सा कर्मचारी आपके साथ व्यक्तिगत दुश्मनी निकालने के लिए इन डाटा को लीक कर दे जिससे समाज मे आपकी इमेज खराब हो कोई नहीं जानता इसलिए आप कोई भी काम करते वक्त सावधान जरूर रहें । इसका जीता जागता उदाहरण Bois Locker Room और Girls Locker Room वाली घटना है।

 

 

Tags

Updatewala Team

The Founder Of Updatewala a leading author and specializing in political, religious, and many more things

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close