खबरें

कोरोना से लड़ने के लिए सरकार को मंदिरों का सारा सोना ले लेना चाहिए : कॉंग्रेस नेता पृथ्वीराज च्वहाण

कोरोना संकट से जूझने के लिए कॉंग्रेस नेता पृथ्वीराज च्वहाण के एक सुझाव के बाद से संत समाज भड़क उठा है , हिन्दू धार्मिक ट्रस्टो का सोना इस्तेमाल करने की सलाह पर संतों नें तीखी प्रतिकृया दी है।

पृथ्वीराज च्वहाण ने कहा है कि –

‘’ देश के धार्मिक ट्रस्टो, मंदिरों में सोना पड़ा हुआ है, इस सोना को सरकार को एक – दो फीसदी ब्याज की दर पर ले लेना चाहिए। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल के मुताबिक देश के अलग – अलग धार्मिक ट्रस्टो के पास 1 ट्रिलियन डॉलर लगभग  75 लाख करोड़ से ज्यादा का सोना है, ये सारा सोना राष्ट्र की संपत्ति है। ‘’

कोरोना संकट से निपटने के लिए कॉंग्रेस नेता पृथ्वीराज च्वहाण के इस सुझाव के बाद से संत समाज बहुत ही ज्यादा भड़क उठा है । हिन्दू धार्मिक ट्रस्टो का सोना इस्तेमाल करने की सलाह पर संतों नें तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। सुमेरु पीठ के शंकराचार्य शंकरानंद सरस्वती ने कहा कि –

‘’ सबसे पहले जितने भी कॉंग्रेस के नेता हैं जिनकी संपत्ति 5 लाख से ज्यादा की है उनकी संपत्ति का राष्ट्रीय करण होना चाहिए, और इन सब नेताओं का नार्को टेस्ट किया जाना चाहिए। मंदिरों की संपत्ति मंदिरों की है, और मंदिरों का ही रहना चाहिए। ‘’

संत समाज का मानना है कि मंदिरों की संपत्ति पर कॉंग्रेस की नज़र हमेशा से रही है। संतों ने सरकार को सुझाव दिया है कि सबसे पहले कॉंग्रेस नेताओं की संपत्तियाँ जब्त करनी चाहिए। तो वहीं अखिल भारतीय संत समिति के महामंत्री स्वामी जितेंद्रनन्द सरस्वती ने कहा है कि –

‘’ काँग्रेस अपने मुगलिया अवतार और सोनिया गांधी अपने मूल रोमन कैथोलिक चर्चों की प्रतिनिधि के तौर पर उभरकर सामने आई है । हिन्दू मंदिरों का सोना हिन्दू समाज की संपत्ति है न कि सरकार की संपत्ति, और अगर मंदिरों का सोना गिरवी रखकर के सरकार चलानी है तो सरकार ही मंदिर के हवाले कर दीजिये। धर्मनिरपेक्षता का ढ़ोल पीटने वाले के साथ – साथ ये शब्द इस देश में नहीं चलेंगे।

बीजेपी नेता प्रेम शुक्ला ने भी कहा है कि – पृथ्वीराज च्वहाण जी से कह दिया जाए कि और भी धर्मों के पास बहुत सारी संपत्तियाँ हैं उन सम्पत्तियों को भी जब्त करने की मांग कर लें अभी उनकी जुबान सूख जाएगी । इनके पास भारत की अर्थव्यवस्था सुधारने के लिए और कोई विकल्प ही नहीं है । अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए जिस प्रकार आदरणीय मोदी जी की सरकार काम कर रही है उस प्रकार भारत की अर्थव्यवस्था में क्वान्टम जंप आना सुनिश्चित है, इसलिए कांग्रेसी नेताओं की इस टीएआरएएच हिन्दू उत्पीड़क नीतियों की आवश्यकता बिल्कुल भी नहीं है ।

दरअसल 2 दिन पहले ही कॉंग्रेस नेता पृथ्वीराज च्वहाण ने ट्वीट कर सरकार को देश में सभी धार्मिक ट्रस्टो को अपने नियंत्रण में लेने का सुझाव दिया था । इसी कारण संत समाज बहुत ही ज्यादा गुस्से में है ।

Tags

Updatewala Team

The Founder Of Updatewala a leading author and specializing in political, religious, and many more things

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close